***Track Lyrics App Notification***

We Are Updating Our App So For 2-3 Days App Will Work Only In Day Times. Please Keep App Install- You Don't Need To Update If Your App Update With Current Version.

Trending Lyrics

Wednesday, July 18, 2018

Saansein Song Track Lyrics Karwaan 2018 Prateek Kuhad

saansein-lyrics-hindi-english-irfan-khan-mithila-palkar-dulquer-salmaan-prateek-kuhad
Saansein Song Track Lyrics Hindi English Irfan Khan, Mithila Palkar & Dulquer Salmaan

Saansein (सांसें) song lyrics from movie Karwaan 2018 starring Irfan Khan, Mithila Palkar & Dulquer Salmaan. Saansein song sung by Prateek Kuhad. The lyrics of song written by and music director is Prateek Kuhad. A T-Series Company presnetation.

Song name: Saansein (सांसें)
Movie name: Fanney Khan (2018)
Starring: Irfan Khan, Mithila Palkar & Dulquer Salmaan
Singer name: Prateek Kuhad
Lyrics written by: Prateek Kuhad
Music director: Prateek Kuhad
Music Label: T-Series

Saansein Song Track Lyrics English- 

Saansein meri ab befikar hain
Dil mein base kaise yeh pal hain
Baatein sambhal jaa rahi hain
Palkon mein yoon hi hansi hai
Man mein chhupi kaisi yeh dhun hai
Har khaahishein uljhi kidhar hain
Pairon se zakhmi jameen hai
Nazrein bhi thehri hui hain
Hai ruki har ghadi
Hum hain chalein raahein yahin...

Yeh manzilein humse khafa thi
In par chayi oss si bewafa thi
Baahon mein ab khoyi hain raatein
Haathon mein khuli hain yeh shaamein
Yeh subha hai nayi
Hum hain chalein raahein yahin...

Main apne hi mann ka hausla hoon
Hai soya jahan par main jaga hoon
Main peeli sehar ka nasha hoon
Main madhosh tha ab main yahan hoon...

Saansein meri ab befikar hain
Dil mein base kaise yeh pal hain
Naghmein khile hain ab saare
Pairon tale hain mashalein
Thamm gayi hai zameen
Hum hain chalein raahein yahin...

Main apne hi mann ka hausla hoon..
Hai soya jahan par main jaga hoon... (x2)

Saansein Song Track Lyrics Hinndi- 

सांसें मेरी अब बेफिक्र हैं
दिल में बसे कैसे ये पल हैं
बातें सम्भल जा रही हैं
पलकों में यूं ही हंसी है
मन में छुपी कैसी यह धुन है
हर खाहिशें उलझी किधर हैं
पैरों से ज़ख़्मी जमीन है
नज़रें भी ठहरी हुई हैं
है रुकी हर घडी
हम हैं चलें राहें यहीं...

यह मंज़िलें हमसे खफा थी
इन पर छायी ओस सी बेवफा थी
बाहों में अब खोयी हैं रातें
हाथों में खुली हैं यह शामें
यह सुबह है नयी
हम हैं चलें राहें यहीं...

मैं अपने ही मन का हौसला हूँ
है सोया जहां पर मैं जगा हूँ
मैं पीली सेहर का नशा हूँ
मैं मदहोश था अब मैं यहाँ हूँ...

सांसें मेरी अब बेफिक्र हैं
दिल में बसे कैसे यह पल हैं
नग़में खिले हैं अब सारे
पैरों तले हैं मशालें
थम गयी है ज़मीन
हम हैं चलें राहें यहीं...

मैं अपने ही मन का हौसला हूँ..
है सोया जहां पर मैं जगा हूँ... (x2)

Thank You! Please comments and share. Tell us if there is any mistake.